Thursday, August 19, 2010

# फौलादी सिंह और डिक्टेटर की तबाही

दोस्तों,प्रस्तुत है फौलादी सिंह का एक क्लासिक अंक जिसकी फरमाईश की गई थी कॉमिक्स/नोवल्स के लिविंग encyclopedia जनाब कुलदीप भाई द्वारा.
कल ही कुलदीप भाई ने इस कॉमिक का चित्र मेरी ऑरकुट एल्बम में देखकर इसको स्कैन करने की इच्छा ज़ाहिर की,अब कुलदीप भाई जैसे मित्र की इच्छा हो तो वो मेरे लिए किसी आदेश से कम महत्व नहीं रखती और फलस्वरूप हाज़िर है तुरत-फुरत स्कैन की गई ये कॉमिक.हालाँकि रमजान का पवित्र महीना चल रहा है और इसमें वक़्त कम ही मिल पता है पर फिर भी कुलदीप भाई जैसे मित्रों के लिए कभी भी कुछ भी क्योंकि कुछ मित्र ऐसे होते हैं की भले ही हम उनसे कभी न मिले हो पर वो दिल के बहुत क़रीब महसूस होते हैं.




























मित्रों पिछले कुछ दिन कॉमिक्स संग्रह के हिसाब से काफ़ी अच्छे रहे क्योंकि मुझे काफ़ी सारी rare और पुरानी कॉमिक्स मिली जिनकी मुझे काफ़ी दिनों से तलाश भी थी.प्रस्तुत है उनमे से कुछ कॉमिक्स के कवर्स.






















 






















































































































40 comments:

Silly Boy. said...

Nice finds.
Congratulations.
Though in childhood science fiction never attracted me and so I read only a few F/S comics and hardly read any Flash Gordan comics. Though I still remember a story in which F/S fights a joker. Do you remember it. It was first published as a feature in Ankur series and later was brought out as a digest. Though nowadays I developed a liking for it and trying to read some old FG strips or comics but I still am not able to acquire any vintage F/S comics which are described by fans like you and Deep as best stories. I have got some lifeless new ones and hardly inspired to read more.
For the first time I am making a pharmiesh for a comic(s). Before that a pharmiesh was made by me for other things like articles or covers etc. but never for a comic.
Please scan that Crookbond and Chacha Bhatija comics and send me the scans. I am searching that C/B comics for a long time and CB comics by Cartoonist Pran is one of my most favourite comics. They are most rarer one as well because Pran created only a few CB comics.
And for the first time I am the first to comment.

Silly Boy said...

C/B = crookbond
CB= chacha bhatija.

Anonymous said...

a fauladi singh comic is always welcome i am ahuge fan of this action hero
@sily boy
nice to know another fauladi fan
frnd i remmember reading fauladi singh and joker series in digests many years back and it is still the best story plot in hindi comics for me
those in ankurs were good but theose published in diamond digests were best , sadly diamond never gave a separate identity(name)_ to this wonder ful storyline and thats one of the reason why it has now disappeared , the story was way ahead of its times, like many other diamond characters faualadi too sufferd from poorly written stories and bad artwork in later comics its powers were never well defined and kept on chAnging over the years which also alienated the new generation from the HERO.. AND IF U ENJOY FAULADI you will also enjoy shaktiputra titles not all but some of them were really masterpieces of sci fiction , that comics has now stopped publication
also akash ka rajkumar and anguthelal are also very good which i blv are also posted here
gaurav

AZAD said...

इंद्रजाल , मनोज चित्र कथा और किरण पब्लिकेशन की टारजन/कोरक के इलावा अगर कोई और कॉमिक्स दिल के बेहद करीब थी वो 'DIAMOND कॉमिक्स', फौलादी सिंह के तो कहने ही क्या, इनको देखते ही मुख पृष्ठ पर नजर जा टिकती थी फौलादी सिंह की 'ताव दी हुई नुकीली मूछों' पर जो इनके व्यक्तित्व को और रौबदार बनाती थी ! लम्बू, डॉ. जॉन, भारत और अन्तरिक्ष के जलवे आज भी जहन में तरोताजा हैं , ज़हीर भाई , लम्बू की वो कौन सी कॉमिक्स थी , जिसमे उसे नकारात्मक भूमिका में तबाही मचाते हुए दिखाया गया है ? मेरे दिमाग में उस कहानी का शीर्षक नहीं याद आ रहा ,ऐसा ही आतंक भारत नें भी मचाया था एक कहानी में , वो भी याद नहीं
1980 के दशक तक फौलादी सिंह की जितनी भी कॉमिक्स आई , सब एक से बढकर एक थी , 'मौत का चक्रवयूह ' को कौन भूल सकता है (जब यह प्रकाशित हुई तभी इसकी कीमत 5 /- थी , उस समय पांच रूपए भी बहुत लगते थे !) , लेकिन 90 के बाद प्रकाशित हुई कहानियां उतनी जानदार नहीं रही , रोमांचकता गायब रहने लगी , फलस्वरूप फौलादी सिंह जैसे जानदार किरदार की लोकप्रियता में गिरावट आई , ऐसा ही हाल लम्बू मोटू और महाबली शाका का हुआ , जो धमाल चाचा चौधरी और साबू नें 'आदमखोर', साबू का बूट, साबू की शादी और राका सीरिज में मचाया , वो कमाल बाद की प्रकाशित कॉमिक्स में गायब था , 1990 के बाद का समय समूचे कॉमिक्स प्रेमियों के लिए लिए बस कडवी यादें ही छोड़ गया , सभी नामचीन कॉमिक्स प्रकाशक एक एक करके बंद होने लगे , और आज वर्तमान में केवल दो ही कॉमिक्स स्टाल पर दिखती हैं : राज और DIAMOND (इनका भविष्य भी अब अधर में लटकता दिखाई दे रहा है )

कॉमिक भाई , जो अपने 9 कवर्स प्रस्तुत किये हैं वैसे तो सभी आकर्षक हैं , लेकिन उनमें से एक कवर ऐसा है जिस पर मेरी नजरें गडी की गडी रह गयी हैं , बस उसके चित्र को ही निहारे जा रहा हूँ , क्या आप बता सकते हैं की वो कवर कौन सा है ?

Abdul Qureshi said...

Thnaks Zaheer Bhai for fauladi Singh Post in Ramzan. Hope next scan would be Chacha Bhatija.

Abdul Qureshi said...

Zaheer Bhai,
on the edge, the scanning quality is not good. I hope you will do a good scanning for such a great comic.

Silly Boy. said...

Gaurav
Yes friend you are right. If Diamond Comics would have published the joker story as a seprate main comic of F/S instead of publishing it as a feature then it would also attend a cult status enjoyed by other vintage F/S comics. Do you agree Comic Bhai?
Azad
Not only F/S, MS or CC. Even stories of other comic characters of Hindi-based major comic compies deteriorated with the advent of 90s. Comic industry in order to compete with TV resorted to that kind of lifeless stories but they met to their doom.
Compare old and new stories of following characters:-
1. Ram-Rahim.
2.Crookbond.
3. Super Commando Dhurv
4. Nagraj.
5. Chacha-Bhatija(the old Pran ones with new ones)
6. Foladi Singh.
There are numerous examples.
Comic bhai apne vichar pesh kare.

Comic World said...

AQ: Bro,on edge the scan quality is not good because this particular comic was in a thick binding from which it was scanned which was quite difficult to scan.

kuldeepjain said...

हे जहीर भाई.. मै हैरान हू की मेरी 'आभार ' पोस्ट कहा गायब हो गयी जो की आज सबसे पहले मैंने यहाँ लिखी थी. कृपया बिलकुल न समझे की मै कॉमिक्स लिया और कट लिया. बेहद शुक्रिया मेरी खवाइश पूरी करने के लिए.आजाद भाई जिस कॉमिक का आप जिक्र कर रहे है जिसमे लम्बू को नकारात्मक भूमिका में दिखाया गया वो थी " अन्तरिक्ष का भगवान" और दूसरा पार्ट " सितारों का युद्ध" . मैंने पाया की फौलादी सिंह के तमाम सुपरहिट कथानक अस्वनी 'आशु' ने लिखे और उनके बाद फौलादी सिंह के कहानियो में वो दम नहीं रहा.. वैसे ही जैसे मनोज श्री विमल चटर्जी के जाने के बाद अपनी चमक खोता चला गया. अस्वनी 'आशु' ने जो कहानिया महाबली शाका , लम्बू मोटू के लिए लिखी वो भी बेजोड़ थी.

Tek said...

Dear Kuldeep,

Could you please scan+post the Sitaron ka Yuddh at the earliest, i am desperate to read that as i have just read Antriksh ka bhagwan :-)

thanks in advance for such community service.

Tek

kuldeepjain said...

@tek..

सॉरी दोस्त .मेरी तमाम कॉमिक इंडिया में है

Comic World said...

SB: Fauladi Singh initial comics were really good one such as 'Karkola Ka Chakravyuh,Shaitan Tarvil,Antriksh Me Sangram,Antriksh Ke Bhagwan' etc.Stories by Aashu were quite interesting though art work by jugal kishore was so-so,the art work was better in Tarvil series comics.Yes,the joker series was quite interesting though art work was again not up to that mark.
After Ashu story quality dropped terribly and i lost interest after that,now i even don't bother to pick any comparatively new comic of FS.
I will be trying to post and you the scans of your requested comics.

Comic World said...

Azaad: आज़ाद भाई,1970 और 1980 का दशक भारतीय कॉमिक्स का स्वर्ण युग था जब एक से एक बढ़िया कॉमिक्स और प्रकाशन हॉउस मैदान में थे,पाठकों के लिए कॉमिक्स की कमी नहीं थी.मुझे डायमंड कॉमिक्स के आरम्भ होने की धुंधली सी याद है की मैं 'अंकुर' सिरीज़ को देखकर कितना रोमांचित हुआ था की अब एक ही कॉमिक में इतनी ढेर सरे पत्रों के कारनामे पढने को मिलेंगे.चाचा चौधरी,बिल्लू,पिंकी,रमन को मैं कितने चाव से पढता था फिर बाद में डाल्टन कॉमिक्स,चंदामामा,स्टार कॉमिक्स,मनोज चित्र कथा और फिर राज कॉमिक्स...सभी कितनी सुनहरी यादें है.
आज़ाद भाई आप भला मनोज चित्र कथा के कवर्स को छोड़कर और किस पर नज़रें टिका सकते है.

Comic World said...

Kuldeep Jain: कुलदीप भाई,कैसी बाते करते हैं,भला मैं ऐसा समझ सकता हूँ क्या!गूगल में कभी-कभी कमेंट्स अपने आप ही गायब हो जाती है,अभी पिछले महीने ही कमेंट्स ने गायब होकर बड़ा परेशान किया था.

AZAD said...

सही पहचाना , वाह ! अग्निसागर की तपिश ही ऐसी है , क्या लपटें उठ रही हैं , क्या दर्द भरा चेहरा बनाया है राक्षस का ! अति उत्तम !!

shekhar said...

Congrats zaheer bro u got really precious gem

as far the concern of comics quality no doubt slowly falling down because of the MANIPULATING world,

no lack of GOOD WRITER

IN INDIA 1100000000 people among them 1% are writer means 11000000 people are writer

and among 11000000, 1% is good writer means 1100000 and among 1100000 , 1% is extra ordinary
means 11000 people are extra ordinary writer among them 1% is super writer means 1100 .

1100 people are geat writer than any super writer of comic world eg stan lee, jack kirby, joe shuster, bob kane, edger rise, lee falk, etc etc.!

i remember my day when i offered manoj publication for my first comics name MAHABALI SHERA AUR AADAMKHOR that time i was 11 years old.
pls do not take it any wrong sense i was still am great fan of manoj chitra katha at that time nagraj and dhuva were rulling all over in india to compete them i created one character name BICCHU MANAV"

I still got letter of manoj publication that they wrote their panel of publisher and writer were having meeting for to discuss about "BICCHU MANAV"

I BECAME QUIT HAPPY WHEN I FOUND MY WRITTEN COMICS MAHABALI SHERA AUR AADAMKHOR THUMBA( manoj pub. added thumba) and all script was same that i wrote.

Suddeenly i saw writer name NAZRA KHAN instead of mine i got SHOCKED,
SAME PERIOD I ALSO WROTE 1 NOVEL APPROX 250 PAGES I TORN ALL MY NOVEL .

From that day i donot beelieve any company.

i read all type of stories eg , manhor kahaniya, nutan kahaniya, dharam yug, satya katha, more than 25000 comics, 5000 novel ,selected short stories from world famous writer etc etc

DO U BELIEVE I READ MORE THAN 100000 stories and watched more than 15000 movies and serials.!

in cine hall more than 3000 movies and 7000 at home videos .

Approx 5000 hindi movies including english dubbed movies also.

I AM PROUD TO SAY I CAN WRITE 10 NEW AND ORIGIN PLOT ( STORIES) WITH IN 24 HOURS..!!

My intension is just to reveal how the cruel s the CREATIVE WORLD .

I put myself among 110000 people who are not ordinary but also not extra ordinary.

There are more than 1000 people who is more knowledgeable than me.

Although anupam sinha, hanif azhar, vivek mohan, parshuram, sanjay gupta,tarun kumar wahi,jolly, etc etc are good writer but its not enough.

" we need extra ordinary writer"

I request to all writer pls come front and show their CALIBER,
LET THE WORLD KNOWS HOW CAPICITY AND ABILITY DO WE GOT .!!
Pls do something that in future we all proud to say "
"Yes iam the comic lover"

Comic World said...

Shekhar: Its sad to hear about what had happened with you but my friend exploitations is every where and comic industry is no exception.
One have to be careful while making his/her place.Similar incident happened with me when i use to write filmy articles in local newspaper,one established writer whose articles use to published in different-different magazines and newspaper approached me and asked me to write for him,means i will provide him articles and he will get published them in 'his' name and i will be paid for my services.I refused without having second thought.
So,such types of incident are more common in creative field itself such as writing novels or films or songs.

shekhar said...

Zaheer bro=yES U ARE RIGHT EXPLOITATION IS EVERY WHERE.

but i know one slogan " Aatyachar sahane wale bhi utne hi doshi hote hai jitna ki Aatyachar karne wale"
it will be good if u write that cheater name also coz this process make others to take care from..!!

Yeh " SHER" likh raha hoo un sab ke liye jinhone kabhi aaise parasthitiyo se samna kiya tha ya kar rahe hai..!

Tumhari najro me hum ek chhoti si "CHINGARI" hi sahi, per tumhare jaise hajoro "JWALAMUKHIYO" ko "JALANA" jaante hai.!

Tumhari najrome hum ek chhoti si "BOOND" hi sahi,per tumhare jaise hajoro "DARIYAO" ko "DUBONA" jaante hai..!!

Tumne abhi jaana hi kaha ho e " duniyawalo"
mile agar ek "MAUKA"
hum "MAUT" ko bhi "PAANI PILANA" jante hai..!!!

Comic World said...

Shekhar: What a encouraging lines from you friend!Well,i don't have any proof against that 'writer' who offered me money to write on his behalf hence i am refraining to take his name,also why to give him international publicity by taking his name at this blog!he is still writing for small magazines/papers so let him continue there.

Anonymous said...

Marvellous comics all of them. Azad bro, the one in which Lambu rebels is a two comic set the first one of which was Antriksh ka Bhagwan. The one in which Globe Bharat rebels is a three comic set (only one in Diamond comics) named Globe ka aatank, Dreamland ka baadshah and Antriksh Yudh. Incidentally if any one has these comics please upload them.

Lalit oberoi said...

Zaheer Brother, Thanks again for such a wonderful covers. Though I am not much fan of fauladi singh, still i enjoy reading it. Aur bhai, ye covers to bas ..... :) Apne Taabiyat khush kar di. Crookbond aur sabhi deewane Juton ke comics cover dekh ke to mere anand ki koi seema hi nahi hai. Bhai Wah ... Maza aa gaya.
Bhai in sabhi comics mein meri pahli request sabhi deewane juton ke hai ... Please ise jaldi upload karna.

Vaise bhai jaan i am surprised that how you had such a huge collections of comics and magazines ? Bhai comics collections ke sath aap hamein purani filmi magazine collections ke bhi darshan karao na. Just like you pots pics of entire collections in one of previous posts. Bhai apke paas to khazana hai. Kisi ki nazar na lage. But aap khud ko sambhal ke rakhna. Masha Allah kafi beshkimti hain aap.

I will comment more frequently now on. abhi ke liye khuda hafiz

Lalit oberoi

Comic World said...

Lalit Oberoi: Lalit brother thanks a ton for such a lovely,praiseworthy and encouraging comment.Well,you know i was wondering that till now none of comic lover has commented over the cover of 'Sabhi Deewane Juton Ke' which in my opinion is the best among the other covers.One can easily notice the glee on crook bond face,the design of his bike,crowd running after him,his friend motu sitting behind him with amused look and dog with shoe in his mouth sitting on motu's shoulder..all is so funny and masterly designed by master artist C.M.Vitankar.
I am happy that you discussed about the old filmy magazine as well,i will try to display them soon as well as putting rare articles from them too.
In the end,thanks once again for such a touching comment,pl be in touch with every post as comic lovers/readers like you are equally precious.

Anonymous said...

Not just filmy magazines, Zaheer ji. You promised to upload some Parags also. Badi besabri se intezaar kar rahaa hoon.

Naya khazana mubarak ho. SpiderMan #1 or wo bhi hindi mein. Great find. Covers share karne ke liye bahut dhanyavaad.

Sanjay

Comic World said...

Sanjay: Yes,thanks Sanjay bro,Parags are too in pipeline.

Lalit oberoi said...

ज़हीर भाई, क्रूकबोंड का तो मैं बचपन से फेन हूँ, उनकी कॉमिक्स ही झलक मिलते ही तबियत खुश हो जाती है, आप जल्दी से इसे अपलोड करियेगा, बेसब्री से इंतज़ार रहेगा. ज़हीर जी , हम तो सिर्फ धन्यवाद का कमेन्ट ही कर सकते हैं, परन्तु आप जो इतना तन मन से सबकी सेवा कर रहे हैं, उसके लिए ये धन्यवाद का कमेन्ट तो काफी कम है, आप नहीं जानते आप कितना बड़ा काम कर रहे हैं, हम सबको अपने बचपन में वापिस ले जाने का श्रेया सिर्फ आपको ही जाता है, इस तनाव भरी ज़िन्दगी में आपके ब्लॉग में आकर चहरे पर मुस्कराहट आ जाती है. इससे बड़ा सामाजिक कार्य और क्या होगा, दूसरो को खुशिया बंटाना मेरी नज़र में सबसे बड़ा भलाई का काम है.
ज़हीर भाई, आपके फ़िल्मी magazine collections की झलक पाने के लिए मैं काफी बेताब हूँ. अगर अमिताभ बच्चन के ऊपर बढ़िया सा आर्टिकल मिले तो उसे ज़रूर पोस्ट करना. आजकल मैं अमिताभ बच्चन के ऊपर एक शोध कर रहा हूँ, अगर आपसे कोई सहायता मिल जाये तो मज़ा आ जाये, क्योंकि मैं जनता हूँ, आपके पास ज़रूर बच्चन साहेब से जुडी महत्वपूर्ण जानकारी होगी.
ज़हीर भाई वैसे आप बता सकते हैं अगर कहीं से पुरानी magazines delhi या आस पास कहीं से मिल सकती हो ?

चलो भाई, अभी के लिए शब्बा खैर. शुभ रात्रि.

Comic World said...

ललित भाई,शुक्रिया इन नेक शब्दों के लिए.यह जानकर अच्छा लगा की आप अमिताभ बच्चन पर शोध कर रहे हैं,क्या आप बता सकते हैं की आपको उनपर किस प्रकार की जानकारी चाहिए?
दिल्ली तो पुरानी कताबों/कॉमिक्सों का गढ़ है,वहां का दरियागंज मार्केट तो बड़ा मशहूर है किताबों के लिए.आपकी वांछित क्रुकबोंड की कॉमिक जल्द ही पोस्ट करने की कोशिश करूँगा.

Lalit oberoi said...

ज़हीर भाई , हम सब जानते हैं की अमिताभ अपने ज़माने के सबसे बड़े अभिनेता रहे हैं, उनके बारे में काफी किस्से सुने हैं, और पुरानी magazines में पढ़े भी हैं, उनकी फिल्मो ने अपने ज़माने में जो धूम मचाई थी, वो उसके बाद देखने को नहीं मिली, ये कहें की हाउसफुल और भारी रश/ गेटतोड़ रश जैसे शब्द अमिताभ के युग के बाद जैसे ख़त्म हो गए, अमिताभ अपने ज़माने में नंबर १ से नंबर १० तक वोही मने जाते थे. लेकिन ये सब किस्से कहानिया बन कर रह गए हैं.

मैं अमिताभ को ले कर इन बैटन का शोघ कर रहा हूँ :
१. उनकी सभी फिल्मो के उस वक़्त क्या रीवुस थे.
२. उन फिल्मो ने क्या व्यापार किया.
३. वो फिल्मे अलग अलग क्षेत्रो में कितनी चली.
४. किस फिल्म ने कितनी जुब्लियाँ मनाई.
५. अमिताभ का रुतबा अपने साथी कलाकारों के सामने कितना बड़ा था , इस बात की पूरी तहकीकात. या ये सिर्फ एक मीडिया की बनायीं बात थी ?
६. अमिताभ की फिल्मो से जुड़े कुछ मजेदार प्रसंग.
७. अमिताभ का पोलिटिक्स का अनुभव.
८. बोफोर्स कांड में अमिताभ का फसना, और उसके तथ्य.
९. कुली के दौरान एक्सिडेंट का पूरा लेखा जोखा.
१०. उनके करियर का दूसरा पड़ाव (१९८८-१९९२).
११. उनके करियर का तीसरा पड़ाव (१९९७- अभी तक )
ज़हीर भाई, अगर आपको लगता है की आपके पास ऐसी कोई ज़बरदस्त सामग्री है जो मेरी इस इनमे से किसी भी मामले में कोई मदद कर दे तो कृपया आपके योगदान का मैं काफी आभारी रहूँगा. वैसे अभी तो मैं सिर्फ शोध ही कर रहा हूँ, इसके बाद इसको क्या रूप देना है, अभी तय नहीं कर पाया, इसे मैं या तो किताब का रूप देना चाहूँगा, परन्तु अभी ये सारा प्लान काफी शुरुआती दौर में हैं, काफी मशहूर फिल्म संपादक कोमल नहता से मेरी बात हुई है, वो फिल्मो के व्यापार का लेखा जोखा देने में मदद करेंगे, देखते हैं , ये सब कहाँ तक जाता है.

ललित ओबेरॉय

sagar said...

hello lalit bro best of luck for your research on mr. AMITAB BACHCHAN.

TODAY , aaj phir purane JAKKAM hara ho gaya.MR.VIKRAM ka aaj 1 saal baad phone aaya woh bata rahethe ki manjul gupta ne 3 astrix ke badle 40 rare indrajal liya hai.!!!

EXCCHANGE KE NAAM SE MUJHE BHARI CHOT MILA THA,
kareeb 1.6 saal mpahale DELHI KA THUG , CHOR, MANJUL GUPTA mere se 650 comics le gaya jinme indrajal 29 no se tha,
3 astrix hindi me MR. VIKRAM ke liye delhi le gaya tha aur delhi ka dalal manjul gupta ne woh bhi mujhse le liya, us DALAL ko ne mujhe sirf 44 comics above 200 and khand hi diya aur mujhse RARE indrajal no 29- 100 ke bich ka karib 40 piecs, 100-200 ke bich ka 50 aur 200-300 ke bich ka karib 35 woh bhi excellant mint condition ka tha woh sab le liya aur baaki ,above no 300-443 karib 100,khand 20-27 karib 200 english/hindi indrajal total kareeb indrajal 455 indrajal, badasize chota size rare comics karib 50, ack =25,goldkey 12, king 10, dell 8 and etc etc GRAND TOTAL 650 COMICS
.
Aaj krishna astami arthaat GOD KRISHNA BIRTHDAY, me prathana karoonga EK NA EK DIN US DALAL KO BHAGWAN, ALLAHA, GOD, JAROOR JAROOR SAJA DEGA.
SABHI COMICS LOVERS AND FANS KO ME US DALAL, THUG SE SAWDHAAN REHANE KA RQUEST KAROONG,
USKA NAME ADD NICHE DE RAHA HOON

BEWARE OF THIS DALAL, THUG
NAME -MANJUL GUPTA AGE 42-45
ADDRESS GK, DELHI AND AGARA

WOH COMICS LOVER KO THUG KE INDRAJAL COMICS 2000 PER ME SELL KARTA HAI.!!

Comic World said...

ललित भाई आपके विचारों को जानकार अच्छा लगा,जहाँ तक अमिताभ की फिल्मों के बिजनेस की बात है उसके सटीक आंकड़े आपको फिल्मों की ट्रेड पत्रिकाएँ जैसे की 'ट्रेड गाइड,फिल्म इन्फोर्मेशन और कम्प्लेट सिनेमा' सरीखी किताबों से मिल सकती है.'ट्रेड गाइड' के संपादक/मालिक हैं तरन आदर्श,'फिल्म इन्फोर्मेशन के संपादक है कोमल नाहटा और कम्प्लेट सिनेमा के संपादक है श्री विकास मोहन,इनसे संपर्क सूत्र निकालने से आपको उन फिल्मों के आंकड़े मिल सकते हैं.बाद के वर्षों(1995 से आगे) की कुछ साल की ट्रेड गाइड/कम्प्लेट सिनेमा मेरे पास घर में पड़ी है अगर आप कहेंगे तो मैं अमिताभ की अपेक्षाकृत नयी फिल्मों के बिजनेस आंकड़े वह से आपको दे दूंगा.
और जहाँ तक अमिताभ के रुतबे की बात है तो वो तो उनके चरम दौर में सबसे बड़ा था और ऐसे ही कई किस्से बयां करते हुए बहुत से फ़िल्मी पत्रिकाओं में इसके मुताल्लिक लेख आते थे,मैं ऐसे ही कुछ लेखों को तलाश करने की कोशिश करूँगा.अमिताभ की फिल्मों से जुड़े कई सारे मज़ेदार प्रसंग है जो उनकी जीवनी में छपे थे,मेरे पास उनकी जीवनी भी है और कई सारी पत्रिकाओं में लिखे गए उनपर लेख भी,वहां से हर संभव मदद का भरोसा आपको दिला सकता हूँ.बोफोर्स काण्ड और उनकी कुली के सेट पर दुर्घटना सम्बंधित पत्रिकाएँ और लेख मैं भी तलाश कर रहा हूँ पर उनकी दुर्घटना के दौरान जो माहौल था उससे थोडा बहुत मैं परिचित हूँ क्योंकि काफी छोटा होने के बावजूद कुछ ऐसी घटनाओं के मेरे ऊपर छाप पड़ी हुई है जैसे की एक उदाहरण देता हूँ,दुर्घटना के बाद जब डॉक्टरस ने उनके बचने की उम्मीद छोड़ दी थी तो हमारे शहर में एक बहुत मशहूर मज़ार है,एक शाम मैं पापा के साथ उस सड़क से गुज़र रहा था और क्या देखता हूँ की मज़ार पर अमिताभ की बड़ी-बड़ी तसवीरें लगी हैं और लोगों की एक बड़ी भीड़ वहां उनकी खैरियत के लिए दुआ मांग रही हैं.यह नज़ारा मेरी आँखों देखा हुआ है इसलिए मुझे बाकी शहरों के मंदिर-मस्जिद-गुरुद्वारों में उनकी सलामती के लिए की गई प्रार्थनाओं की खबर पर पूरा भरोसा है.
उनके कैरियर के दुसरे और तीसरे पड़ाव की बहुत सी जानकारी मेरे ज़हन में सुरक्षित हैं क्योंकि मैं शुरू से ही उनका ज़बरदस्त प्रशंसक रहा हूँ.

Comic World said...

Sagar: Sagar Bhai i am very sorry about the cheating which you have faced due to some person.I know whats the pain when some one is cheated like this,i can easily understand your feelings and i am very much with you.

sagar said...

comic world: Thanks zaheer bhai for sharing my pain, iam not interested to write negative word to somebodys or personal things on this blog but when call came from MR.VIKRAM i caouldnot stop to write my pain..!!

lalit bhai: iam also great fan of mr. amitab bachchan, as i read some books written on amitab bachan so i suggest to write something
different or new .!!

u can find more than 10 magazine /books which is based on mr. amitab bachchan diamod comics also published some comics style feature on amitab bachchan.
hum sabhi log behad bhagyashali hai jinhone kuch mahan legands ke daur me paida huwe jaise
1. bruce lee,
2.michel jackson,
3.lee falk,
4.mohhmad ali,
5.pele
6.amitab bachchaN
7. GOLDEN ERA OF HOLLYWOOD BOLLYWOOD COMICS

aur hamse bhi bhagyashali hamare purvaj the jin hone mahan legands ke daur me paida huwe the.
1.mahatma gandhi
2.abraham linkin,
3.tolostoy
4. munshi prem chand
5.harivansh rai bachchan ETC ETC

kya aane wala pidhi ootne BHAGYASHALI HONGE ?

Lalit oberoi said...

ज़हीर भाई, बहुत बहुत शुक्रिया हौंसला बदने के लिए , भाई मैंने कोमल नाहटा से बात की थी, वो मदद करने को तो तयार हैं, मैंने उनसे २० साल की filminformation (१९७३-१९९३) मांगी थी, लेकिन उनकी कीमत वो बहुत ज्यादा मांग रहे हैं, १ साल की पत्रिकाए ३५००/- की, २० साल का स्टॉक ७०,००० का पड़ेगा. ये काफी बड़ी रकम है, पहले तो मैं काफी उत्साहित था, लेकिन इतना बड़ा budget देख के थोडा फीका हो गया. अभी तरन आदर्श से संपर्क कर के देखता हूँ, शायद बात बन जाये.
वैसे भाई, ये जान के काफी ख़ुशी और उत्साह हुआ की आप के पास भी काफी साड़ी ट्रेड पत्रिकाए हैं, वैसे मैं जानता हूँ ये काफी कठिन है, आप किस तरह वो पत्रिकाए मुझसे बाँट सकते हैं ? ज़हीर भाई मेरा email id lalit.dynamics@gmail.com है, क्या हम आगे की बातचीत ईमेल के जरिये भी कर सकते हैं ?
सागर भाई, जान कर हार्दिक ख़ुशी हुई की आप बच्चन साहेब के प्रशंसक हैं. सागर भाई, मैं दिलीप कुमार, अमिताभ, शाहरुख़ और आमिर का काफी बड़ा चाहने वाला हूँ. अभी शुरुआत बच्चन साहेब से कर रहा हूँ, अगर ये कोशिश कामयाब रही तो अगला शोध दिलीप कुमार पे करने का विचार है.

अमिताभ के इस शोघ में अभी मैं उनकी सभी फिल्मो को देख रहा हूँ और उनपे अपने विचार लिख रहा हूँ, और साथ ही उन फिल्मो की रिलीज़ के समय आलोचकों की क्या राय थी, ये भी एकत्र कर रहा हूँ. ज़हीर भाई आप इस मामले में मेरी काफी मदद कर सकते हैं, अगर उनकी फिल्मो के reviews मिले तो उसे ज़रोर्र स्कैन कर लेना.

ज़हीर भाई, आपको काफी कष्ट दे रहा हूँ, उसके लिए माफ़ी. लेकिन अभी कुछ तो हक बनता है अपना भी ... :)

Comic World said...

Lalit Oberoi: ललित भाई,'फिल्म इन्फोर्मेशन' के एक अंक की कीमत ज़्यादा से ज़्यादा Rs.20/- तक ही होगी क्योंकि जब मैं उसको लेता था तब शायद उसकी कीमत Rs.15/- थी,'कोमल नाहटा' बहुत अधिक कीमत मांग रहे है.आप दुसरे प्रकाशकों से बात कीजिये शायद बात बन जाये.मेरे पास जो ट्रेड पत्रिकाएँ हैं उनसे मैं अमिताभ की फिल्मों के बिजनेस के आंकड़े स्कैन कर आपको भेज दूंगा.
भाई,मैं अमिताभ और दिलीप साहब का बहुत बड़ा प्रशंसक हूँ और उनपर किसी भी शोध कार्य में सहयोग देकर मुझे ख़ुशी ही होगी.जी,हाँ,आगे की बात हम मेल के ज़रिये कर सकते हैं.आपकी ज़रूरतों का मुझे भली-भांति अंदाज़ा है और किसी भी मौके के मिलने पर उसे आपके लिए सुरक्षित रखूँगा.

Rahul Rattan said...

Thank uuuuuuuuuuuuuuu sooooooooooo muchhhhh!!

i am a huge fauladi sing fan and its a treat to see a new rare comic once again.. This comic is not available anywhere on net..
Could you please post more??. Really brother thank u from the bottom of my heart..

P.s.

Sagar has promised me to upload Fauladi singh Joker series and few other after Dusshera..SAGAR hope u remember ur promise..:))

Anonymous said...

Thank you sir Ji

Anonymous said...

Hello Sir, nice work! However, a question; why would not you post the actual comics but their covers? If it is about money, please let me know so that interested ones may buy them! If not about money, what else?

Comic World said...

Anon: Thanks for the praise.I am unable to understand what make you to think like that as on this blog comics are being posted for FREE from last FOUR years and they shall be posted in future too.
Where money comes in the picture...did i ever asked for money to post comics then why this allegation!!
Pl if you can't boost my enthusiasm then don't discourage it also.
Thanks.

The Devil said...

Will look forward to the comics for which you've uploaded the covers. Thanks for this one though.

इशमेलावाला said...

I came in contact with Fauladi Singh and his adventures while in class six. My father bought me Champak, Parag, Nandan, Baal Bharti, and Amar Chitra Katha from the very begiinning. However, he was quite averse of allowing me comics like Fauladi Singh and others. I had to add up every chawanni and athanni by cutting in my meal that I used to have in the hotel. I was just crazy to reserve my copy of any new issue of Fauladi Singh. Special issues were costlier than others, making it harder to add up the changes. The most difficult part of this reading to hide it from papa. I rejoice the issues uploaded, and thank you for this.

Maneesh Mehra said...

Could you please scan and upload "Vinash Ke Putle" from the "Space Star" series ? I have been looking for it for a long time (soft/hard copy).

Related Posts with Thumbnails

Contributors

Navdeep
Srinivas
Frank
Achala
Venkit