Monday, December 27, 2010

# Phantom Diamond Comics

We already know that Diamond publication issued around 100+ Phantom digests right from year 1990 in full color but the printing and paper quality of these digests were not the very best with the only consolation of their being in unedited format.
Recently Diamond publication issued few more Phantom Digests(information about exact no. of issues is not yet confirmed) with better printing and page quality in B/W format.




`





















Continue Reading »

Friday, December 24, 2010

# Merry Christmas with Tinkle

Friends its Christmas time and its time to say jingle jingle bell,jingle all the way.....hence presented here is a comic with best wishes of Christmas to all fellow comic lovers all over the world.





















Continue Reading »

Thursday, December 23, 2010

# Madhumuskan No.273

A vintage issue of Madhumuskan for all of you,hope you will like it.





















Continue Reading »

Monday, December 20, 2010

# Bahadur Is Back and Inspector Azad

Good news for Bahadur lovers that this saffron kurta clad hero who once use to fight dacoits in ravines is back and now he will fight against terrorism equipped with sophisticated modern gadgets and weapons.

 























Continue Reading »

Friday, December 10, 2010

# Lotpot No.109

As i have already mentioned in one of my earlier post that Lotpot was the first main platform where the artist of the types of Pran,Shehaab,Sukhwant,Kripa Shankar Bhardwaj,Jitendra Bedi and others got to the taste of success so without emphasizing more on the value and importance of this comic presented here is another vintage issue of Lotpot which i hope all of you will like.





















Continue Reading »

Sunday, November 28, 2010

# Khooni Haar & Nagrani Ke Kundal

Friends today's post consist of two vintage issue of Manoj Chitra Katha which were in big format and with old logo.Unfortunately both stories were not written by Bimal Chatterji due to which the story part is a little weak of specially nagrani ke kundal whereas the story of Khooni Haar is written by Ansar Akhtar(Nanha Jasoos Bablu fame) which is quite interesting.

























Continue Reading »

Saturday, November 13, 2010

# Lambu-Motu Aur Neelgarhi Ka Khazana

दोस्तों प्रस्तुत है लम्बू-मोटू की एक अनूठी कॉमिक और एक दुर्लभ अंक,यह दुर्लभ इसलिए कहा जाएगा क्योंकि इसके चित्रकार हैं जाने-माने कार्टूनिस्ट और पद्मश्री विजेता श्री सुधीर तैलंग,वैसे तो हिंदुस्तान टाइम्स,नवभारत टाइम्स और इंडियन एक्सप्रेस पढ़ने वालों को तैलंग जी के परिचय की आवयश्कता नहीं हैं फिर भी दुसरे पाठकों की खातिर मैं यह बताता चलूँ की राजनैतिक कार्टूनिस्टों की जमात में तैलंग जी का नाम आर.के.लक्ष्मण के बाद बड़ी इज्ज़त से लिया जाता है.






















Continue Reading »

Sunday, October 31, 2010

# Mrityu Ke Doot

Continuing Deepawali bonanza here is the 3rd comic of the festive occasion which is from a lesser known publication 'Sun Comics' about which not much information is available with me except that it began publishing Hindi comics in 1982-83 and mostly published stories featuring Vikram and Insp.Garun.
The current comic is no exception as it contains stories of both Vikram and Garun which are illustrated by Late Pradeep Sathe and Bapu Patil respectively.According to the credits the story of Ins.Garun is illustrated by Bapu Patil but its in exactly same style and shape as of Vikram which suggests the possibility of Sathe and Patil being the same person.
If anybody have more information about Sun Comics i.e how many comics and up till when did it published comics then pl share with us.





















Continue Reading »

Saturday, October 30, 2010

# Deepawali Bonanza

With best wishes for Deepawali i wish to say that from a long time requests for Madhumuskan was being made from comic lovers such as Atul Vishwakarma and others,hence respecting their request not only one but two Madhumuskan are hereby presented for all of you.But it doesn't mean that Deepawali bonanza will stop with Madhumuskans only,in fact more comics are yet to follow this week.


























Continue Reading »

Saturday, October 16, 2010

# महिमाए-जींस

सत्तर के दशक में जब डेनिम जींस का भारत आगमन हुआ तो इसकी महिमा पर कई आलेख,कवितायेँ इत्यादि लिखी गईं थी,ऐसे ही एक आलेख से आपका परिचय करवा रहे हैं जो तब की बहुचर्चित पत्रिका 'दीवाना' में प्रकाशित हुआ था.कृपया गौर फरमाइए और जींस की महिमा से परिचित होकर लाभान्वित होइए.



















































तो दोस्तों कैसी लगी आपको महिमाए-जींस,अगर पसंद आई तो कुछ अलफ़ाज़ हमारे साथ बाँटने में गुरेज़ न करें.
Continue Reading »

Thursday, September 30, 2010

# Hum Hindustani






































(Cartoon By:Sw.Jagdish Bharati)


        "LETS NOT FORGET THAT WE ARE INDIAN FIRST" Continue Reading »

Monday, September 27, 2010

# "जाने कहाँ गए यह निर्देशक...!"

दोस्तों,यूँ तो हिंदी सिनेमा ने एक से एक प्रतिभाशाली निर्देशक वक़्त-वक़्त पर सिनेमा दर्शकों को दिए हैं जिन्होंने अपनी कला से हम सब को लम्बे समय तक चमकृत किया है परन्तु जब कभी कोई नया निर्देशक बहुत कम समय में ही अपनी फिल्मों से बहुत अधिक उम्मीदें जगा दे और अचानक ही रुपहले परदे से गायब हो जाये या बहुत जल्द ही अपनी चमक खो बैठे तो बरबस ही यह ख्याल आता ही आख़िरकार ऐसा क्या और क्यों हुआ उसके साथ!
आज हम बात करेंगे ऐसे ही कुछ निर्देशकों की जिन्होंने आशा से अधिक उम्मीदें जगाई लेकिन जब उन्हें परवान चढाने का वक़्त आया तो वो गैर-हाज़िर थे अथवा हाशिये पर.
इस कड़ी में सबसे पहला नाम ज़हन में आता है 'मंसूर खान' का जिन्होंने 'क़यामत से क़यामत तक,जो जीता वही सिकंदर,अकेले हम अकेले तुम' और 'जोश' जैसी फिल्में बनाकर अपना नाम अति-प्रतिभाशाली निर्देशकों के सूचि तो दर्ज तो करवा लिया परन्तु उसके बाद अचानक ऐसा क्या हुआ जो उन्हें फिल्मों और फ़िल्मी दुनिया से दूर ले गया ये समझ नहीं आया!आइये मिलकर इसी तरद्दुद(परेशानी) को दूर करने की कोशिश करते हैं. 












  




Continue Reading »

Wednesday, September 22, 2010

# Gullivar Bauno Ke Desh Mein

Friends,why is so that these new comics fails to interconnect one as those old comics use to do a long way back,why we can't identify ourselves with the story line of these current comics,why these comic doesn't excites us though those old comics still recreate the magic of which we are fond of.
Recently came across with a latest set of Raj Comics which were quite costly,colorful printing,nice glossy pages,quite attractive cover designs.I started to read with a new ignited hope but couldn't read more than 9-10 pages as the soul of comic,the story miserably failed to attract me,this superhero concept,unnatural villains,unconvincing plot and excessive use of modern(imaginary) gadgets all was such that i am wandering into a alien land and watching a alien animated movie.
These surviving publication houses give a huge hue and cry over the declining comic business/culture in India but hardly they give a  thought over the quality of their product,they also fail to understand that what a common Indian comic reader want to read.
If these publication house can sense the nerve of a common comic reader then might be we can see another revamping period of comics.
For eg. lets read this comic 'Gulivar Bauno Ke Desh Me',though its a fantasy/fictional story but see its quality,illustrations and presentation..simply unmatched and close to common comic reader nerve. 



























Continue Reading »

Saturday, September 4, 2010

# Jagdish Ji's Cartoons

Friends,renowned cartoonist and illustrator of 'Madhumuskan' Shri jagdish Ji is back in action again and he is now creating fortnightly cartoons which he has kindly allowed to post on this blog for all of you.
Here is the first two set for all of you.
































Continue Reading »

Thursday, August 19, 2010

# फौलादी सिंह और डिक्टेटर की तबाही

दोस्तों,प्रस्तुत है फौलादी सिंह का एक क्लासिक अंक जिसकी फरमाईश की गई थी कॉमिक्स/नोवल्स के लिविंग encyclopedia जनाब कुलदीप भाई द्वारा.
कल ही कुलदीप भाई ने इस कॉमिक का चित्र मेरी ऑरकुट एल्बम में देखकर इसको स्कैन करने की इच्छा ज़ाहिर की,अब कुलदीप भाई जैसे मित्र की इच्छा हो तो वो मेरे लिए किसी आदेश से कम महत्व नहीं रखती और फलस्वरूप हाज़िर है तुरत-फुरत स्कैन की गई ये कॉमिक.हालाँकि रमजान का पवित्र महीना चल रहा है और इसमें वक़्त कम ही मिल पता है पर फिर भी कुलदीप भाई जैसे मित्रों के लिए कभी भी कुछ भी क्योंकि कुछ मित्र ऐसे होते हैं की भले ही हम उनसे कभी न मिले हो पर वो दिल के बहुत क़रीब महसूस होते हैं.

























Continue Reading »

Sunday, August 15, 2010

# Happy Independence Day

First of all a very Happy Independence Day to all Indians.Lets now celebrate our independence by reading those comics which we read for the first time when we were really free...yes,when we were free from tension of livelihood,when we were free from the tension of 'projects',when we were free from the tyranny of 'Boss',when we were free from the daily chikh-chikh of wife,when we free from the tensions of converting 99 into 100,when we were free from the tensions of maintaining day-to-day life,when we were free from the worries of making our 'own' house,when the air was much purer than what we breath in now,when the sunlight was much clearer than its now,when the independence and republic day meant one more holiday and sweets from school,when paradise seems to be located in comics,movies,T.V and summer vacations,when Sunday morning means 'Rangoli' and Thursday evening meant a feature film on Doordarshan,when rainy day meant a another probable holiday from school.



























Continue Reading »

Tuesday, August 10, 2010

# पूछे बेताल बताएँ आप,टिंकल के साथ

दोस्तों,चंदामामा के बारे में किसी को बताने की ज़रूरत नहीं है की वो किस प्रकार की पत्रिका थी,वो एक अनोखी पत्रिका थी जिसकी कहानियां भारतीय लोक कथाओं और प्राचीन इतिहास से प्रेरित थीं.चंदामामा की कहानियों के चित्र एक अनोखी अलौकिक दुनिया में पाठकों को सैर करवाते थे,ऐसा लगता था जैसे हम कोई राजा-रानी वाली प्राचीन एनीमेशन फिल्म देख रहे है.
चंदामामा में जो फीचर मुझे सबसे अधिक पसंद था वो था 'विक्रम-बेताल',इसकी कथाएँ उस समय एक अजीब सी सिहरन और रोमांच जगाती थी और कहानी में अंत तक उत्सुकता बनी रहती थी.बेताल का विक्रम से प्रश्न पूछना,विक्रम का जवाब देना और न बोलने की शर्त के भंग होते ही बेताल का वापस उड़ कर पेड़ पर चले जाना...और उस पर प्राचीन चित्र..सब मिला कर कहानी में एक ऐसी अबूझ दिलचस्पी पैदा कर देते थे जिसको वर्णन करने के लिए ठीक से शब्द नहीं मिल रहे.
तो दोस्तों,आज की पोस्ट उसी विक्रम-वेताल की कथा से ही जुडी है,कैसे?....आइये मिलकर जानते है.


 

















Continue Reading »

Wednesday, August 4, 2010

# One Post, Many Thoughts!

दोस्तों इस बार काफ़ी सारे ख्यालात ज़हन में घुमड़ रहे है जिन्हें आपके साथ बांटना है पर सोच रहा हूँ की कहाँ से शुरू करू!..क्या पहले उस कॉमिक की बात करूँ जिसके बारे में बात करने की पिछली पोस्ट में बात हुई थी या फिर मरहूम शेहाब जी की उस कॉमिक की बात करू जो इस पोस्ट में आपके साथ मिलकर पढना चाहता हूँ या फिर उस कम्युनिटी के बारे में आप लोगों को बताऊँ जो न चाहते हुए भी हालातों के मद्देनज़र मुझे बनानी पड़ी.
चलिए सबसे पहले उस कॉमिक की ही बात करते हैं जिसके बारे में बात करना पिछली पोस्ट में तय हुआ था और वो कॉमिक है 'वन-वीर लोथार'.दोस्तों ये सिर्फ महज़ एक आम मैन्ड्रेक कॉमिक नहीं है जिसमे मैन्ड्रेक हमेशा की तरह अपराधियों से अपनी जादुई शक्ति के बल पर लड़ता है,बल्कि ये एक ऐसी कहानी है जो यह बताती है की मैन्ड्रेक और उसका जिगरी दोस्त लोथार कब और कैसे मिले.
 

 






















Continue Reading »

Friday, July 23, 2010

# Chhotu-Lambu Aur Spider Den

Friends i was out of station for last 1 week,or better to say that i was on a visit to my home town for some personal work.
So here is a vintage comic for all of you by a classic artist late Mr.Shehaab ji,i got few other comics by him too which i will be posting subsequently.


























Continue Reading »

Saturday, July 10, 2010

# Space Star

This comics is posted to show my respect and appreciation toward one fellow blogger who himself is a connoisseur in the field of Indian comics.This comic was a long time request of our Anupam Bhai,who is a great fan of illustrator and write Anupam Sinha, and was asking to scan this particular comic from a long time.
Since i was not able to locate this comic from heap of bags in my house hence was unable to fulfill Anupam Bhai's request before today.

Now,when Anupam Bhai's long time request has been fulfilled i hope that he will be more than happy to find it here.The best thing i like about Anupam Bhai is his devotion towards Indian comics which is simply unmatched,not only this but his devotion towards those persons whom he like/admire is also unmatched as he promptly use to create and dedicate a blog to those persons whom he likes(burning examples,blogs created by him on Anupam Sinha and Sonal Chahuhan).
I really wish that someday he too may like and admire me up to that extent where he can dedicate a blog in my name also :)


























Continue Reading »

Monday, July 5, 2010

# Vintage Articles

Readers like Silly Boy,Lalit and many others were requesting from long time to post selected vintage articles from old film magazines.I too like much to read quality film magazines of bygone era specially of 80's and 90's,and in this space magazines like Madhuri,Sushama,Filmfare,Priya,Movie Jagat etc are of worth mentioning.
Nowadays there are no quality magazine left except Filmfare(English) which up to some extent still has maintained at least some quality though it also has deteriorated much with the changing taste of readers and culture,rest all magazines have already lost in mist of time much before.
























Continue Reading »

Wednesday, June 30, 2010

# Review of Vol.1 of Hermes Press Phantom Dailies

When it was announced by Hermes Press last year that they will print all Lee Falk written Phantom Dailies and Sundays in full color,from then the first volume(1936-37) of the series was being eagerly awaited by Phantom phans all over the world.
This very first volume was released in March-April this year but in India till May it was not available within reasonable price range which could be afforded by an average Indian reader.
Its cheaper(around Rs.1400-1500/-) version can now be procured through online shopping sites such as flipkart,infibeam etc.


















Continue Reading »

Thursday, June 3, 2010

# कथा तीसरे वेताल की

UPDATE 4th June:The download link for original strip,Sunday No.122, of this presented story has been provided for comparison and analysis purpose.

 ******************************************************************************************************
 दोस्तों,प्रस्तुत है एक और रोमांचक दुभागीय वेताल कथा आप सब की खिदमत में जो की एक बार फिर वेताल वृतांतों से ली गई है और इस बार इस कथा में फ़ाल्क बता रहे हैं की कैसे सिकंदर का हीरे का प्याला वेताल के वृहद कोषागार में आया.
ये कथा और एक वजह से भी महत्व रखती है और वो है इस कथा में 'भारतवर्ष' का जिक्र होना,वैसे तो वेताल कथा में भारत का जिक्र होना कोई नयी बात नहीं है क्योंकि फ़ाल्क ने शुरू में वेताल का घर भारत में ही सोचा था और शुरुआत की सभी कहानियां भारत के शहरों 'मद्रास,बॉम्बे,कलकत्ता' आदि में ही घटित हुई थी,पर इंद्रजाल कॉमिक्स ने अतिरिक्त कुटनीतिक सतर्कता दिखाते हुए किसी भी विवाद को टालने के मंशा से संवादों आदि में कांट-छांट की जिससे की भारत से जुडाव किसी भी कथा में प्रतीत न हो,जैसे की 'बंगाला' को 'डंगाला' कर दिया,'The Belt' कथा में समुंद्री लुटेरे 'रामा' को 'रामालु' कर दिया गया था,यहाँ तक की इस कथा में भी 'India' को बदल के 'Xenia' कर दिया गया है.बहरहाल,वापस कथा पर लौटते हैं,ऐसे बदलावों के बारे में हम आगे और पढ़ेंगे.

























Continue Reading »

Monday, May 24, 2010

# वाकुल दुर्ग का रहस्य

UPDATE(24th May):2nd part of 'Vakul Durg Ka Rehasya' also uploaded.
******************************************************************************************************************
दोस्तों प्रस्तुत है वेताल के सबसे ज़्यादा लोमहर्षक कथाओं में से एक "वाकुल दुर्ग का रहस्य" जो की इंद्रजाल कॉमिक्स द्वारा 1980 में प्रकाशित की गई थी.
इस कॉमिक की ख़ास बात ये है की या एकलौती ऐसी Swedish कहानी है जिसने इंद्रजाल कॉमिक्स के पन्नो में जगह पाई,और दूसरी बात,ये उन चंद कथाओं में से एक है जो ली-फाल्क की कलम से जन्म लेने के बावजूद रोमांच और स्तर में किसी भी दूसरी फाल्क वेताल-कथा से पीछे नहीं है.
ऐतिहासिक घटनाओ की पृष्ठभूमि में कहानी बुनने की फाल्क की ख़ासियत का लेखक 'नॉर्मन वर्कर' ने भी अनुसरण किया है और कार्पेटिया एवं ऑस्ट्रिया के बीच हुई जंग के कैनवस पर इस कहानी में रंग भरे हैं.

















कथा कुछ ऐसे शुरू होती है,ऑस्ट्रिया ने जबरन कार्पेटिया को कब्ज़ाये रखा है,बाद में बोस्निया एवं हर्ज़ेगोविना को कब्ज़े में लेने की लिए कार्पेटिया से सैनिक बुलाये जाते हैं,मौका देख कर स्थानीय अवाम पुराने शासक एवं वाकुल दुर्ग के मालिक काउंट स्टायरबाश के नेतृत्व में विद्रोह कर देती है जिसको कुचलने के लिए कार्पेटिया व ऑस्ट्रिया के मध्य युद्ध होता है.मैदान काउंट के हाथ आता है पर भीषण लड़ाई और काफी नुकसान के बाद,घायलों और कमज़ोर सैनिकों को लूटने के लिए अंतर्राष्ट्रीय मुजरिम संगठन 'गिद्ध' नज़रें गड़ाए बैठा था पर इस बार गिद्ध के मंसूबे कुछ और ही थे,बुरी तरह थके सैनिकों और घायल काउंट की अवस्था का फायदा उठा कर गिद्ध का मुखिया ब्लैक बोरिस एक खुनी योजना को अंजाम देकर काउंट की जगह ले बैठता है.स्थानीय अवाम पर काउंट के ज़ुल्म हद पार कर जाते हैं,जनता त्राहि-त्राहि कर बैठती है.इस अत्याचारी से कैसे छुटकारा पाया जाये ये विचारने के लिए महापौर के घर बैठक होती है और उसमे ज़िक्र छिड़ता है वेताल का जिसने पूर्व में कभी स्टायरबाश परिवार के किसी सदस्य के मदद की थी एवं जिसका सुरक्षा चिन्ह वाकुल दुर्ग के दरवाज़े पर चिन्हित था,नतीजतन वेताल से मदद की गुहार लगायी जाती है,और जैसा की आशा थी वेताल(मौजूदा वेताल के दादा) का आगमन होता है और कैसे वो वाकुल दुर्ग को गिद्ध के आतंक से मुक्ति दिलाता है ये सब खुद ही जानिए इस सनसनीखेज चित्रकथा में.
वेताल-वृतांतों में से ली गई कथाएँ हमेशा सामान्य से अधिक रोमांचक एवं रोचक रही हैं इसी तथ्य को भुनाया है लेखक 'वर्कर' ने और इसमें सहयोग दिया है प्रतिभाशाली चित्रकार 'जैमे वाल्व' ने जिनके चित्र वेताल की शख्सियत को वही रहस्यमयी प्रभाव प्रदान करते हैं को कभी मूर के चित्र किया करते थे.
'गिद्ध' एक प्रभावशाली वेताल-खलनायक रहा है जो सर्वप्रथम नज़र आया था डेली स्ट्रिप न.114(The Vultures) में पर अचरज की बात ये है की फ़ाल्क ने कभी 'गिद्ध' को दोहराया नहीं,वैसे फ़ाल्क ने बहुत कम ही खलनायकों को दोहराया है और गिद्ध भी कोई अपवाद नहीं,पर स्वीडिश कथाकारों ने मशहूर खलनायकों का अच्छा इस्तेमाल किया है एवं कई रोचक कहानियां प्रस्तुत की हैं.
फ़ाल्क के उपजाऊ दिमाग में विचारों की कभी कोई कमी नहीं रही इसलिए उन्होंने पुराने खलनायकों को दोहराने की बजाये हमेशा नए-नए खलनायकों को पेश करने को ही तरजीह दी,हालाँकि कई ऐसे पुराने खलनायक रहे हैं जिनकी वापसी काफी धमाकेदार हो सकती थी पर फ़ाल्क का नज़रिया शायद दूसरा ही था.जिन खलनायक किरदारों को फ़ाल्क ने दोहराया है उन्हें उँगलियों पर गिना जा सकता है जैसे की 'ताराकिमो,टेरर,कुला कु’.
अगर फ़ाल्क चाहते तो गिद्ध को भी उसी रोमांचक रूप पेश करते रहते जिस तरह अष्टांक को उन्होंने मैन्ड्रेक के सदाबहार खलनायक के रूप में प्रस्तुत किया,अष्टांक और विषधर ही एकमात्र ऐसे खलनायक रहे जिनसे मैन्ड्रेक की मुठभेड़ कई बार दोहराई गयी और अंत में ये दोनों एक ही व्यक्ति निकले.अजीब बात है की मैन्ड्रेक के लिए उन्होंने खलनायकों को दोहराने से परहेज़ नहीं किया पर वेताल के लिए उनका नज़रिया कुछ अलग ही रहा.
खैर,बात करते है मौजूदा कॉमिक की,इस कहानी की खासियतों में कसी हुई स्क्रिप्ट,चुस्त संवाद और कमाल के चित्र शामिल है,खासतौर से दुसरे भाग का मुखपृष्ठ जो की निश्चय ही इंद्रजाल कॉमिक्स के सबसे आकर्षक कवर्स में से एक है.
ज़रा गौर फरमाइए इस कवर पर,फ्रंट में वेताल की गंभीर मुखमुद्रा वाला ब्लोअप,आगे गरजती हुई तोपें और पीछे आग की लपटों से बनती हुई अक्षर 'V' की शक्ल जिसमे गिद्ध उड़ रहे है..वाह,कमाल की सोच को चित्रों द्वारा जीवंत किया है आर्टिस्ट 'जैमे वाल्व' ने!




















प्रथम भाग के कवर को तो स्वर्गीय गोविन्द जी ने तैयार किया था पर द्वितीय भाग के कवर को मुझे नहीं लगता की किसी दूसरे आर्टिस्ट ने तैयार किया होगा बल्कि कॉमिक के सबसे आखिरी पैनल को ही कवर का रूप दे दिया गया है जो की बिलकुल उचित निर्णय था.




















FREW द्वारा इस कथानक को सामान्य 32 प्रष्ट के फॉर्मेट में प्रकाशित किया था पर इंद्रजाल ने इसे दो भागो में प्रकाशित किया था,हालाँकि FREW द्वारा किसी भी पैनल की कांट-छांट नहीं की गई थी पर उनके आकार में ज़रूर बदलाव किया गया था 32 पृष्ठ में कहानी को समेटने के लिए लेकिन इंद्रजाल ने पूरी भव्यता एवं सम्मानजनक तरीके से इस कहानी को दो शानदार भागों में पाठकों से सामने रखा.
दोस्तों,तुलनात्मक अध्धयन हेतु FREW द्वारा प्रकाशित इसी कहानी का वो अंक भी साथ-साथ प्रस्तुत किया जा रहा है हार्दिक साभार सहित जनाब अजय मिश्रा साहेब के जिन्होंने इस अंक को तुरत-फुरत स्कैन कर भेजने की कृपा की.





















Continue Reading »

Thursday, May 20, 2010

# आगामी आकर्षण

दोस्तों आगामी आकर्षण के रूप में प्रस्तुत होने वाली है एक बेहद रोमांचक वेताल कथा "वाकुल दुर्ग का रहस्य",ये महज़ एक कॉमिक पोस्ट नहीं होगी बल्कि हम तफ़सील से बातचीत करेंगे इस कॉमिक,वेताल और इस कथा से जुड़े कई अनछुए पहलुओं के बारे में और जानेंगे क़रीब से कई ऐसी बाते जो ज़्यादा लोगों की जानकारी में नहीं होंगी.
तो  दोस्तों बस थोड़ा इंतज़ार कीजिये इस कालजयी वेताल कथा का जिसका नाम है  
"वाकुल दुर्ग का रहस्य"

 
 


Continue Reading »

Sunday, May 9, 2010

# Samundri Daku

Indrajal comics no.51,'Samundri Daku' was posted by me on mega Indrajal comics blog "Indrajal on line" on 2nd May. 

    


































But this was not an ordinary post where comic lovers can simply download comic,say formal thanks and forget about the post,rather they were forced to tickle their brains in order to download the comic as the download file was password protected,the password was hidden in a quiz and solution of the quiz was itself the d/l password.
Scans of 4 panels from different strips were taken and the d/l password was the solution of following equation:
D/L Password = (Strip No.1+Strip No.2+Strip No.3) X Strip No.4


Continue Reading »

Friday, April 30, 2010

# Dharamyug

'Times of India' group have been a renowned name among the oldest major publication houses of India.It has produced a wide variety of magazines and comics suiting to the taste of all age groups such as Indrajal comics and Parag for children,Filmfare and Madhuri for movie buffs,Sarika for younger generation,Femina for women,The Illustrated Weekly of India for English literary loving readership and Dharamyug for Hindi readership.
IWI and Dharamyug both magazines use to deal with current affairs along with fine articles on other popular topics such as sports,cinema,T.V. etc.
In this post i will be talking something about Dharamyug which came in publication in the year 1950 to target the Hindi readership as after independence reading culture and specially Hindi/Urdu reading culture was all set to become the prime time pass of Indian mass in parallel with Hindi cinema.

It was surprising to find that no formal and relevant information about Dharamyug was available anywhere over net,hence in this respect Comic World is the first site to throw at-least some light on this fabulous but extincted magazine of yesteryear. 

























Continue Reading »

Related Posts with Thumbnails

Contributors

Navdeep
Srinivas
Frank
Achala
Venkit